स्टॉक मार्केट में पैसा कमाने के उद्देश्य से कुछ लोग निवेश करते है और कुछ लोग ट्रेडिंग करते है, जब ट्रेडिंग की बात आती है तो एक शुरुआती ट्रेडर को हमेशा स्टॉक ट्रेडिंग के साथ शुरुआत करनी चाहिए। इसलिए आज हम Stock Trading Meaning in Hindi लेख में समझेंगे कि स्टॉक ट्रेडिंग क्या है और कैसे काम करती है। 

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग जोखिम भरा है इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि एक अच्छा ट्रेडर बनने के लिए आपको स्टॉक मार्केट और ट्रेडिंग को समझने के उपरान्त ही ट्रेडिंग की शुरुआत करनी चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते है तो आपके पास जितना भी पैसा है आप उसे खो सकते है। 

चलिए अभी Stock Trading Meaning in Hindi लेख में स्टॉक ट्रेडिंग का मतलब क्या है? समझते है :

 

स्टॉक ट्रेडिंग का मतलब क्या है?

स्टॉक ट्रेडिंग को इक्विटी ट्रेडिंग के नाम से भी जाना जाता है स्टॉक ट्रेडिंग में किसी कंपनी के शेयर्स की खरीद और बिक्री उसमे ट्रेड करते है। 

स्टॉक ट्रेडिंग में एक ट्रेडर स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड कंपनी के शेयर्स में ट्रेड करता है, बहुत से ऐसे ट्रेडर्स है जो इक्विटी ट्रेडिंग कर बहुत अच्छा पैसा कमाते है। 

स्टॉक ट्रेडिंग में आपको मार्केट के लिए समय देना होता है क्योंकि स्टॉक ट्रेडिंग में शेयर्स को वार – वार खरीदा या बेचना शामिल हो सकता है। स्टॉक ट्रेडर्स का उद्देश्य स्टॉक्स में ट्रेड कर उनसे प्रॉफिट करना है। कुछ स्टॉक ट्रेडर इंट्राडे ट्रेडिंग करते है, जिसमे कि वह एक ही दिन में कई बार शेयर्स को खरीदते और बेचते हैं।

स्टॉक ट्रेडिंग में तीन तरह के ट्रेडर ट्रेडिंग करते है :

इंट्राडे ट्रेडर : इंट्राडे ट्रेडर वह होता है जो जिस दिन शेयर्स को खरीदता है उसी दिन मार्केट बंद होने से पहले उन शेयर्स को बेच देता है फिर चाहे उसको नुकसान हो रहा हो या फिर प्रॉफिट हो रहा हो। 

स्विंग ट्रेडर : स्विंग ट्रेडर वह ट्रेडर होता है जो अपनी पोजीशन को कुछ दिनों से लेकर कुछ सप्ताह तक होल्ड रखता है। 

पोजिशनल ट्रेडर : पोजिशनल ट्रेडर अपनी पोजीशन को कुछ सप्ताह से लेकर कुछ महीनो तक होल्ड रखता है। 

अभी तक आप Stock Trading Meaning in Hindi लेख में समझ गए होंगे कि स्टॉक ट्रेडिंग क्या है? अभी हम समझते है कि स्टॉक ट्रेडिंग कैसे काम करती है?

 

स्टॉक ट्रेडिंग कैसे काम करती है?

स्टॉक ट्रेडिंग स्टॉक मार्केट से पैसा कमाने का ऐसा तरीका है जिसमे कई तरह ट्रेडर काम करते है, यह ट्रेडर अपने ज्ञान और अनुभव के आधार पर अपनी ट्रेडिंग शैली का चुनाव करते है। 

स्टॉक ट्रेडिंग में स्टॉक प्राइस में रोज हो रहे परिवर्तन से पैसा बनाने के प्रयास में कंपनियों के शेयर खरीदना और बेचना शामिल है। स्टॉक ट्रेडर पारंपरिक शेयर बाजार निवेशकों से विल्कुल अलग है जो शेयर मार्केट में लंबी अवधि के लिए निवेश करते है। 

स्टॉक ट्रेडिंग वह ट्रेडर करते है जो शॉर्टटर्म ट्रेडिंग कर मार्केट से अच्छा पैसा बनाना चाहता है। 

एक निवेशक किसी कंपनी में निवेश करता है और लम्बे समय तक उसको होल्ड रखता है यानी कि उसकी किस्मत उस कंपनी उस कंपनी के भरोसे रहती है जिसमे उसने निवेश किया है, लेकिन स्टॉक ट्रेडर किसी भी एक कंपनी पर निर्भर नहीं रहते है क्योंकि वह बहुत सारे स्टॉक में ट्रेड करते है। 

यदि आपके पास पैसा है और आप स्टॉक ट्रेडिंग सीखना चाहते हैं, तो ब्रोकरेज कंपनियों ने आपके कंप्यूटर या स्मार्टफोन से शेयरों को बहुत ही आसानी से ट्रेड करना संभव बना दिया है।

लेकिन इससे पहले कि आप स्टॉक ट्रेडिंग की शुरुआत करे, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप जानते हैं कि स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है। 

 

स्टॉक ट्रेडिंग कैसे करें?

यदि आप पहली बार स्टॉक ट्रेडिंग की शुरुआत कर रहे हैं, तो जान लें कि अधिकांश कि स्टॉक मार्केट में अधिकांश ट्रेडर अपना पैसा गवांते है इसलिए यह जरुरी हो जाता है कि आप सही ज्ञान और मानसिकता के साथ शुरुआत करे, अभी स्टॉक ट्रेडिंग की शुरुआत करने के लिए कुछ स्टेप्स दिए गए है जिन्हे आप फॉलो कर सकते है :

  1. किसी भी ब्रोकर के साथ एक ब्रोकरेज खाता खोलें। 
  2. स्टॉक ट्रेडिंग बजट सेट करें, कि आप शुरुआत में कितने पैसे के साथ स्टॉक ट्रेडिंग की शुरुआत करेंगे। 
  3. मार्केट ऑर्डर और लिमिट ऑर्डर का उपयोग करना सीखें। 
  4. शुरुआती समय में पेपर ट्रेडिंग के साथ अभ्यास करें। 
  5. जितना हो सके स्टॉक ट्रेडिंग को गहराई से समझने की कोशिश करे। 
  6. अपनी साइकोलॉजी और मनी मैनेजमेंट पर ध्यान केंद्रित करे।  

शेयरों को कहाँ ट्रेड करे?

शेयरों को ट्रेड करने के लिए आपको एक ब्रोकर की आवश्यकता होती है। लेकिन किसी ब्रोकर के झांसे में न आएं, बल्कि अपनी ट्रेडिंग शैली और अनुभव के साथ सबसे अच्छी तरह मेल खाने वाले और कम ब्रोकरेज चार्ज लेने बाले ब्रोकर का चुनाव करे। 

एक बार जब आपका ब्रोकरेज खाता खुल जाता है उसके बाद आप स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड किसी भी सौंपने के शेयर्स खरीद या बेच सकते है, और यह जब ब्रोकर के द्वारा दिए गए वेब टर्मिनल और सॉफ्टवेयर आदि के मदद से संभव होता है। 

अगर आसान शब्दों में कहे है तो ब्रोकर आपको एक ऐसा प्लेटफार्म प्रदान करता है जहां आप अपनी सभी ट्रेडिंग गतिविधि कर सकते है जिसके बदले में वह आपसे कुछ कमीशन चार्ज करता है जो अलग – अलग ब्रोकर की अलग – अलग हो सकती है।  

 

निष्कर्ष

स्टॉक ट्रेडर ऐसे व्यक्ति होते हैं जो इक्विटी सिक्योरिटीज में ट्रेड करते हैं। स्टॉक ट्रेडर्स का मुख्य उद्देश्य विभिन्न कंपनियों में शेयर खरीदना और बेचना होता है, जिससे कि वह अच्छा प्रॉफिट बना सके। 

स्टॉक ट्रेडिंग बहुत अधिक जोखिमभरा हो सकता है अगर आप स्टॉक ट्रेडिंग और स्टॉक मार्केट की बिना समझ के इसकी शुरुआत करते है तो सबसे पहले स्टॉक मार्केट और ट्रेडिंग को अच्छे से सीख ले, उसके बाद ही स्टॉक ट्रेडिंग की शुरुआत करे। 

हमें उम्मीद है कि आपको Stock Trading Meaning in Hindi लेख से यह समझने में मदद मिली होगी कि स्टॉक ट्रेडिंग का मतलब क्या है और स्टॉक ट्रेडिंग कैसे काम करती है?