भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में इंट्राडे ट्रेडिंग बहुत लोकप्रिय है इसलिए बहुत से बहुत इसे सीखना और समझना चाहते है। इसलिए आज हम Intraday Trading meaning in Hindi लेख में समझेंगे कि इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है? 

शेयर मार्केट में प्रत्येक सेकेण्ड शेयर की कीमतों में उतार-चढ़ाव होता रहता है, जिसके कारण ट्रेडर्स को दिन भर में कई ट्रेड अवसर मिलते हैं। किसी कंपनी के शेयरों में ये उतार-चढ़ाव निवेशकों की धारणा में बदलाव को दर्शाता है। 

किसी भी स्टॉक की कीमत उसकी डिमांड और सप्लाई में बदलाव के आधार पर ऊपर नीचे होती है। सरल शब्दों में, जब किसी स्टॉक की डिमांड बढ़ती है तो उसकी प्राइस भी बढ़ती है इसके विपरीत अगर किसी स्टॉक की डिमांड कम है और सप्लाई ज्यादा है तो उसकी प्राइस घटती है। 

तो चलिए Intraday Trading meaning in Hindi लेख में पहले समझते है कि इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है? 

 

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?

इंट्राडे ट्रेडिंग में एक ट्रेडर अपनी पोजीशन को सेम डे मार्केट बंद होने से पहले स्क्वायर ऑफ कर देता है यानि कि जिस दिन वह शेयर्स को खरीदता है उसी दिन मार्केट बंद होने से पहले उसे अपने शेयर्स बेचने होते है चाहे उसे नुकसान ही क्यों न हो रहा हो। 

इंट्राडे ट्रेडिंग में एक ट्रेडर का मुख्य उद्देश्य शेयर्स में चल रहे मूवमेंट से लाभ उठाकर मुनाफा कमाना होता है। इसलिए, एक इंट्राडे ट्रेडर का प्रॉफिट उन शेयरों की कीमतों में उतार-चढ़ाव पर निर्भर करता है जिन शेयर्स में वह ट्रेड कर रहा है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए, आपके पास एक सक्रिय ऑनलाइन ट्रेडिंग अकाउंट होना अनिवार्य है क्योंकि आपकी सभी ट्रेडिंग गतिविधि ट्रेडिंग अकाउंट में ही होती है

नोट :- इंट्राडे ट्रेडिंग को डे ट्रेडिंग के नाम से भी जाना जाता है।  

 इंट्राडे ट्रेडिंग को एक उदाहरण की मदद से समझते है :

इंट्राडे ट्रेडिंग का उदाहरण –

इंट्राडे ट्रेडिंग, सरल शब्दों में, आज खरीदने और आज ही बेचने के वारे में है। इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान स्टॉक्स की खरीद और बिक्री एक ही दिन में एक ट्रेडिंग सत्र के भीतर होनी चाहिए। उदाहरण के लिए, एक ट्रेडर XYZ स्टॉक को 100 रुपये में सुबह 9:25 बजे खरीदता है और उसे 12:45 PM पर 102 रुपये में बेचता है। इस तरह उसे 2 फीसदी प्रॉफिट होगा।

इंट्राडे ट्रेडिंग में ट्रेडर्स को बहुत अच्छा प्रॉफिट होता है क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग में ब्रोकर की तरफ से मार्जिन दिया जाता है।  इसके परिणाम स्वरूप अच्छे प्रॉफिट के साथ आपका जोखिम भी बढ़ जाता है।  

मार्जिन को आसान शब्दों में समझते है माना इंट्राडे ट्रेडिंग पर ब्रोकर की तरफ से 5x मार्जिन दिया जा रहा है तो इसका मतलव है कि आप अपनी कैपिटल राशि से 5 गुना अधिक ट्रेड वैल्यू के साथ ट्रेड कर सकते है। 

जैसे – माना आपके ट्रेडिंग खाते में 10 हजार रुपयें है तो आप इंट्राडे ट्रेडिंग में 50 हजार रूपये तक के शेयर्स वैल्यू के शेयर्स में ट्रेड कर सकते है।  

इंट्राडे ट्रेडिंग में लीवरेज का उपयोग करके ट्रेडर अधिकतम प्रॉफिट बनाते है इसके साथ ही उन्हें ज्यादा नुकसान भी उठाना पड़ता है क्योंकि मार्जिन के साथ ट्रेड करना उतना ही जोखिम भरा है जितना कि यह आकर्षक लगता है।

ऊपर दिए गए उदाहरण की मदद से आप समझ गए होंगे कि इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है? (Intraday Trading meaning in Hindi). अभी हम समझते है कोई भी इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करें?

ये भी पढ़े : 5 Best Intraday Trading Tips in Hindi 

इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करें?

इंट्राडे ट्रेडिंग शरु करने के लिए सबसे पहले हमें एक ब्रोकर के साथ डीमैट & ट्रेडिंग खाता खोलना होगा। यदि हम डिस्काउंट ब्रोकरों के साथ अपना ट्रेडिंग और डीमैट खाता खोलते हैं, तो हमें उनके औसत से कम ब्रोकरेज शुल्क देना होता है, जबकि अगर आप फुलसर्विस ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग अकाउंट खोलते है तो आपको ज्यादा ब्रोकरेज चार्ज देना होता है।  

ब्रोकरेज वह राशि होती है जो ब्रोकर के द्वारा शेयर्स खरीदने व बेचने पर ली जाती है। 

एक वार जब आप एक ब्रोकर के साथ अपना अकाउंट खुलबा लेते है तो आपका अगला कदम है कि स्टॉक मार्केट के वारे में अच्छे से समझले है और इंट्राडे ट्रेडिंग को विस्तारपूर्वक सीखले।  इसके उपरांत ही लाइव मार्केट में ट्रेडिंग की शुरुआत करे क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग जोखिम भरी है इसलिए बिना मार्केट की समझ के आप भारी नुकसान कर सकते है।  

 

क्या इंट्राडे ट्रेडिंग करना सुरक्षित है?

अन्य ट्रेडिंग शैली की तुलना में इंट्राडे ट्रेडिंग में आमतौर पर अधिक जोखिम होता है।

निवेशकों और इंट्राडे ट्रेडर्स के बीच महत्वपूर्ण अंतर यह है कि निवेशक अपनी संपत्ति को बढ़ाने के लिए लम्बी अवधि का निवेश करते है जबकि इंट्राडे ट्रेडर्स जल्दी पैसा बनाने की उम्मीद से ट्रेडिंग करता है। 

अव सबाल यह आता है कि क्या हम इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा कमा सकते हैं? और क्या इंट्राडे ट्रेडिंग सुरक्षित है?

तो जबाव है हाँ बिल्कुल। ट्रेडर इंट्राडे ट्रेडिंग से बहुत मोटी कमाते करते हैं। लेकिन उसके लिए एक ट्रेडर को मार्केट की अच्छी समझ होनी चाहिए तभी वह मार्केट से पैसा बना सकता है। 

अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग को अच्छे से समझते है तो इंट्राडे ट्रेडिंग आपके लिए सुरक्षित है और अगर आपको मार्केट की समझ नहीं है तो यह आपको अपनी बर्षो की जमा पूंजी गवानी भी पड़ सकती है। इसलिए बिना मार्केट को सीखे इंट्राडे से दूर रहे। 

ये भी पढ़े :- तकनीकी विश्लेषण क्या है?

 

इंट्राडे ट्रेडिंग के लाभ

तुरंत लाभ के अवसरों से लेकर ओवरनाइट जोखिम को समाप्त करने तक, इंट्राडे ट्रेडिंग के बहुत से लाभ हैं। आइए इंट्राडे ट्रेडिंग द्वारा दिए जाने वाले प्राथमिक लाभों को समझते है :

नियमित प्रॉफिट अर्जित करने का मौका: एक उचित ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी और रोजाना कुछ घंटों के लिए ट्रेड करके, एक अनुभवी ट्रेडर जल्दी से आय का एक वैकल्पिक स्रोत बना सकता है।

कोई ओवेरनाइट जोखिम नहीं: चूंकि सभी ट्रेडिंग पोजीशन दिन के भीतर क्लोज हो जाती हैं, इसलिए इंट्राडे ट्रेडिंग में ओवरनाइट जोखिम नहीं है। 

उच्च रिटर्न: एक प्रभावी स्ट्रेटेजी और सही मनी मैनेजमेंट अपनाकर कोई भी ट्रेडर अधिक प्रॉफिट कर सकता है। क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग एक ट्रेडर को थोड़े समय के भीतर पर्याप्त प्रॉफिट अर्जित करने की अनुमति देती है।

कम पैसो के  शुरुआत कर सकते है : इंट्राडे ट्रेडिंग का एक अन्य लाभ यह है कि ट्रेडर छोटी राशि से ट्रेड शुरू कर सकता है। क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग में ब्रोकर की तरफ से मार्जिन दिया जाता है जिस कारण काम राशि के साथ आप ट्रेडिंग की शुरुआत कर सकते है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग रोमांचक और उपयुक्त रूप से फायदेमंद है। लेकिन यह जोखिम भरा है। यदि आप एक इंट्राडे ट्रेडर बनने में रुचि रखते हैं, तो स्टॉक मार्केट के वारे में ज्ञान और अनुभव प्राप्त करें। इसके साथ ही अपने नुकसान को कम करने के लिए इंट्राडे ट्रेडर को अनुशासन के साथ ट्रेड करना चाहिए। 

सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता है, और एक उपयोगी इंट्राडे ट्रेडिंग टिप यह है कि आप गलतियों से सीखे और आगे बढ़े। 

 

निष्कर्ष

इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरुआत करते समय दूसरों की सलाह पर आंख मूंदकर भरोसा न करें। किसी भी स्टॉक में ट्रेड करने से पहले आपको टेक्निकल एनालिसिस करने और समझ विकसित करने की आवश्यकता है।

 

किसी भी डोमेन में शुरुआत करना चुनौतीपूर्ण होता है, लेकिन यदि आप ऐसे एक व्यक्ति हैं जो जोखिम को सहन करने की ताकत रखता है, और महत्वपूर्ण घंटे मार्केट के मूवमेंट को पढ़ने के लिए समर्पित करता हैं, तो इंट्राडे ट्रेडिंग आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

 

हमें उम्मीद है कि Intraday Trading meaning in Hindi लेख से इंट्राडे ट्रेडिंग के वारे में आपके सभी सबालो के जबाव मिल गए होंगे।